Tag Archives: सरहद शायरी

शायरी – ये दिल झरनों सा गिरकर चोट खाता रहा

new prev new shayari pic

टूटा चांद रातभर दर्द को सहलाता रहा
किसी का चेहरा आंखो में आता जाता रहा

अधूरे अरमानों की चिताओं को सजाकर
आग को कोई खामोशी से सुलगाता रहा

दुखों की पहाड़ियों की चोटी पर चढ़कर
ये दिल झरनों सा गिरकर चोट खाता रहा

ये कैसी सरहद इस जमाने ने खींच रखी है
जिसे पार करने के लिए वो जान गंवाता रहा

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – तू न आई तो तेरी याद में मर जाएंगे

love shayari hindi shayari

हम इंतजार की हर हद से गुजर जाएंगे
तू न आई तो तेरी याद में मर जाएंगे

पनाह मांगती हैं खुशियां मेरे दिल में
पर तेरे दर्द के खातिर उसे ठुकराएंगे

अब तो हर सिलसिला ठहरा सा लगता है
हम किसी मोड़ पे तुझे बैठे मिल जाएंगे

मौत की सरहदों से अब हम नहीं डरते
शायद उस पार ही अब तुमसे मिल पाएंगे

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – सीने की गहराइयों में मुहब्बत जिंदा दफन है

prevnext

सीने की गहराइयों में मुहब्बत जिंदा दफन है
उसपे बिछा मेरे जिस्म का सादा कफन है

ये मौत जिंदगी के करीब ले आई है
और जिंदगी में अब तू ही तू समाई है

अपना ही साया है ये रात का अँधेरा भी
अपना ही अक्स है ये चाँद का चेहरा भी

आज जहाँ भी रहूँ जमीं-आस्मा बदलती नहीं
शहर की रौनक से मेरी तबियत बहलती नहीं

घर-शहर-देश की सरहदें मैं नहीं जानता
मैं जानता हूँ बस तेरे दर्दे-मुहब्बत को

और आँसू के उन सच्चे कतरों को
जिसे मैंने तेरी प्यासी उदासी में देखा है

तेरे उजड़े हुए बाल और मरता सा बदन
मुझे याद है बस एक जोगन जो तेरे जैसी है

©RajeevSingh #love shayari