Tag Archives: सलामत शायरी

शायरी – मुझमें आता है मेरा यार आंसू बनकर

love shayari hindi shayari


मुझमें आता है मेरा यार आंसू बनकर
फिर से वो बिछड़ता है आंसू बनकर

उनकी यादों को भूल जाना मुमकिन नहीं
मेरी हर कोशिश बहती है आंसू बनकर

प्यार तो प्यार है, महसूस किया जाता है
अहसास गजल लिखता है आंसू बनकर

आंसुओं से ये मुहब्बत नजर आती है
मेरी नजरों में तू सलामत है आंसू बनकर


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी – हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत

love shayari hindi shayari

हो इश्क का तमाशा और हुस्न की कयामत
ऐसे में दिल-ए-आशिक कैसे रहे सलामत

एक बूंद दर्द में डूबा, तब बन गया समंदर
किसी बेवफा ने की थी उसपे कभी इनायत

सब सूख चुकी हैं वो गुलाब की पंखुरियां
संभाल के रखा था आखिरी तेरी अमानत

आंखों में जमा होके गिले-शिकवे हुए पानी
चेहरे पे बहता दरिया, आईने की है शिकायत

©RajeevSingh # love shayari

 

शायरी – रंग आँसू ने भी बदले तन्हाई में

love shayari hindi shayari

दर्द से आह गई गूँज तन्हाई में
कोई सुनता नहीं आवाज तन्हाई में

डोर तो टूट गयी दो टुकड़े बाकी हैं
कौन जोड़ेगा दोनों को तन्हाई में

आँख तो लाल हुई फिर बेरंग बरसी
रंग आँसू ने भी बदले तन्हाई में

सारी परतें दिल में मेरे सलामत हैं
जख्म दर जख्म संभाले हैं तन्हाई में

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – इस दर्द के सागर में दिल कैसे सलामत हो

love shyari next

कब जाने मरासिम हो, कब जाने मुहब्बत हो
इस आस में जीते हैं, एक दिन तो कयामत हो

किसका कदम बढ़ेगा, किसके रहगुजर पर
मंजिल तो दो तरफ हैं, दोनों में कशमकश हो

एक रंज सा होता है, सीने के सफीने में
इस दर्द के सागर में दिल कैसे सलामत हो

परवाज़ आसमां में उस चांद को छू लेता
गर उसके ही वश में मिलने की किस्मत हो

(मरासिम- रिश्ता, संबंध)
(सफीना- नाव)

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari