Tag Archives: सवाल शायरी

shayari – शायद मुझसे कुछ कहना चाहती हो

shayari latest shayari new

ऐ खामोश लड़की शायरी इमेज

शायद मुझसे कुछ कहना चाहती हो
जो भी जवाब है उसे क्यों छुपाती हो

मैंने पूछा कि कहो प्यार है कि नहीं
हां या ना के लिए इतना तरसाती हो

सामने आकर सवाल करता हूं और
यूं नजरें चुराकर तुम गुजर जाती हो

मालूम नहीं कि क्या है तेरे दिल में
परेशान हूं, तुम क्यों नहीं बताती हो

ऐ खामोश तुमसे शिकायत है इतनी
मेरी उलझन तुम नहीं सुलझाती हो

अब और इंतजार करना मुश्किल है
बता भी दो, क्यों इतना तड़पाती हो

shayari green pre shayari green next

शायरी – मेरी आंखों के आंसू पे इतने सवाल करती हो तुम

new prev new shayari pic

खो गया हूं किधर मुझको भी अब, ये मालूम नहीं
रिश्तों के भंवर में डूब गया मैं कब, ये मालूम नहीं

मैं ऐसी जगह पहुंचा जहां सुकूं नहीं मिलता कभी
मेरे हालात पर हंसते हैं क्यों सब, ये मालूम नहीं

सब कुछ यहां मिलता है मगर ये गम रह जाता है
किस किसको प्यार मिलता है रब, ये मालूम नहीं

मेरी आंखों के आंसू पे इतने सवाल करती हो तुम
कैसे बताऊं क्या है रोने का सबब, ये मालूम नहीं

©राजीव सिंह शायरी

शायरी – अब गिन रहा हूं मैं दर्दे दिल लिए हुए

love shayari hindi shayari

भूख से जिंदगी में जब बेहाल हो गए
जेहन, जिगर, गजल भी फटेहाल हो गए

मरघट में जब हमने एक घर तलाश लिया
दुनिया की लाशों के लिए मिसाल हो गए

कदमों में पड़ी थी जो चप्पल टूटी हुई
रास्तों के लिए हम भी एक सवाल हो गए

अब गिन रहा हूं मैं दर्दे दिल लिए हुए
किस किससे हुआ इश्क, इतने साल हो गए

मरघट- श्मशान

©RajeevSingh # love shayari

शायरी – दुनिया को हम इस कदर दिल से ठुकराते हैं

love shayari hindi shayari

दुनिया को हम इस कदर दिल से ठुकराते हैं
इस खून की बस्ती में बस आंसू बहाते हैं

जिनके बगैर हमको आता नहीं चैन कभी
उनकी ही तरफ हम तो नजरें न उठाते हैं

जीने को आए हैं पर आखिर क्यूं आए हैं
ऐसे ही सवालों को हम सोचते रह जाते हैं

दम मेरा है घुटता इस भीड़ में अब रहके
बस चांद संग तन्हाई में हम सांस ले पाते हैं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – हमने तुझे देखा है जब, तन्हा सी ही लगती हो क्यूं

love shayari hindi shayari


इस ओर से आता हूं मैं, उस ओर से आती हो तुम
यूं रोज ही मेरे रू ब रू, आके गुजर जाती हो तुम

नहीं जानता क्या नाम है तेरा ऐ हसीन अजनबी
मुझसे मगर दो नर्गिसी आंखें तो मिलाती हो तुम

हमने तुझे देखा है जब, तन्हा सी ही लगती हो क्यूं
मेरे दिल में यही सवाल बार-बार जगाती हो तुम

बिखरी हुई लगती हो क्यूं, जरा जुल्फें तो संवार लो
ये कौन सा गम है जिसे सूरत पे सजाती हो तुम

मौका मिलेगा जो कहीं तो पूछ लूंगा तुमसे कभी
क्या दर्द के शायर से अपना दिल लगाती हो तुम


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari