Tag Archives: सैड शायरी

शायरी – एक महबूबा की दुआएं रोती हैं

new prev new shayari pic

आसमान टूटता है, घटाएं रोती हैं
जब दिल टूटता है, निगाहें रोती हैं

रिश्तों के बाजार में भीख मांगती
प्यार की कितनी सदाएं रोती हैं

तनहाई के आलम में तकिए पर
एक महबूबा की दुआएं रोती हैं

दूर शहनाई की आवाज सुनकर
किसी की मातमी फिजाएं रोती हैं

©राजीव सिंह शायरी

Advertisements

शायरी – इश्क के सागर में वो दूर गई इतनी

new prev new next

तेरी सूरत का चिराग जो बुझा जीवन से
मुद्दतों तक आईने में कोई चेहरा न दिखा

इश्क के सागर में वो दूर गई इतनी
कि कश्ती को फिर अपना किनारा न दिखा

इन अंधेरों में अब सुकूं नहीं मिलता
मगर इसके सिवा कोई सहारा न दिखा

मैंने चांद को तलाशा बहुत आस्मा में
मगर अमावस में मुझको उजाला न दिखा

©RajeevSingh

शायरी – ये रोज ही होता है कि तुम याद आते हो

love shayari hindi shayari

फिर चोट खा गए हैं इस जख्मी जिगर पे
फिर आज रो रहे हैं हम गमगीन नजर से

ये रोज ही होता है कि तुम याद आते हो
दिल रोज कराहता है माज़ी के कहर से

बेजान से इस जिस्म को बस मौत चाहिए
पल-पल में मुंतजिर हूं मैं आठों पहर से

सौ बार जनाजा मेरा घर लौटकर गया
श्मशान भर गया था दुनिया के बशर से

माजी- अतीत
मुंतजिर-इंतजार में
बशर- इंसान

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – जो रह गए थे दरम्यां वो फासले क्या थे

love shayari hindi shayari

जो रह गए थे दरम्यां वो फासले क्या थे
मसला-ए-दिल सुलझा नहीं, वो मामले क्या थे

तेरे इश्क में सूरत से मैं उदास हो गया
जिसे देखकर तू निखर गई वो आईने क्या थे

अपने ही कयामत में बसर कर रहा हूं मैं
जो दर्द बनके जी लिए वो मरहले क्या थे

शरमाए हुए आए थे जो मेरे दर के सामने
सब लूट के मेरा चल दिए, वो हुस्न भी क्या थे

(मरहले- मंजिल)

©RajeevSingh #love shayari