Tag Archives: हकीकत शायरी

शायरी – मौत से इश्क को मुहब्बत है

love shayari hindi shayari


दर्द ही इश्क की हकीकत है
मौत से इश्क को मुहब्बत है

बादल आवारा चांद क्यूं पाए
रोनेवालों की यही किस्मत है

ये जमाना तो मेरा दुश्मन है
और जमाने से मुझे नफरत है

कैसे भुलूं मैं जिंदगी में तुझे
मेरी तन्हाई की तू जरूरत है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

Advertisements

शायरी- दर्द दिल में और उदासी में

love shayari hindi shayari


गम के तूफानों से घिरा रहता है
तू हकीकत से डरा रहता है

दिल को जाहिर नहीं होने देता
आंख में आंसू भरे रहता है

न हंसता है और न रोता है
कहीं तन्हा सा बैठा रहता है

दर्द दिल में और उदासी में
किसी अंधेरे में पड़ा रहता है


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – रात के साये में जीकर हमने जाना

love shayari hindi shayari

जो भी मिला बस तेरी रजा थी
कभी बावफा थी, कभी बेवफा थी

आंखों में मेरे जो आंसू भी आए
हमने ये सोचा कि तेरी दुआ थी

मेरी ये हकीकत मुझे न बताओ
कि मेरी ये किस्मत मुझसे खफा थी

रात के साये में जीकर हमने जाना
दर्द के धूप की ये अच्छी दवा थी

(बावफा- वफा के साथ)

©RajeevSingh

शायरी – ऐ हुस्न एक शम्मा जला दे जरा

love shayari hindi shayari

है चारों तरफ मेरे दिल में अंधेरा
हुस्न एक शम्मा जला दे जरा

चिट्ठी लिखूंगा उन्हें अब लहू से
ओ आंखें अब खूं तो बहा दे जरा

अब दिन-रात तेरे खयालों में हैं
इसे अब हकीकत बना दे जरा

गैरों के ताने जब दिल में चुभे
दिले-नादां तू मुस्कुरा दे जरा

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – दिले-नादां और कितनी दूर जाएगा

love shayari hindi shayari

दिले-नादां और कितनी दूर जाएगा
किस शहर में तेरा दर्द मिल जाएगा

जिन चिरागों से रोशनी खफा है अभी
उस बुझे दिल को चांद न मिल पाएगा

अब ये फुरकत के सदमे न सह पाएंगे
तेरे बिन जिंदगी खाक में मिल जाएगा

हर हकीकत से जुदा हूं मैं दुनिया में
बेखुदी तुमसे खयालों में ही मिल पाएगा

फुरकत – जुदाई

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आप मिलती तो मैं खुद से ना जुदा होता

love shayari hindi shayari


आपने अपना नामो-निशां छोड़ा होता
तो मेरे खत का लिफाफा नहीं कोरा होता

ये हकीकत है कि आप सा कोई ना मिला
आप मिलती तो मैं खुद से ना जुदा होता

मुझे पता है मेरी रूह में बस आप ही हैं
काश! आपकी रूह में मेरा भी पता होता

बह रही है जमीं पे चांदनी की नदी
तैरते साये का कोई तो किनारा होता


©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तन्हा ही रहने ही आदत है हमको

love shayari hindi shayari

तन्हा ही रहने की आदत है हमको तो लोगों से मिलके क्या करें
अपनी खबर जब हमको नहीं है तो किसके बारे में क्या कहें

 जब थे चले हम अपने सफर पे कोशिश तो की थी मिलने की सबसे
लेकिन हमें तब तज़रबा हुआ था कि इन बेवफाओं से क्या मिलें

देखा है जबसे नंगी हकीकत कपड़े पहनने कम कर दिए हैं
जरुरत है आखिर में एक कफन की तो जिस्म सजाके क्या करें

फक़ीरों के जैसा ही जीना मुनासिब, दिल की सोहबत में मरना अच्छा
लगता है वाज़िब तन्हा ही जीना तो दुनिया में जाके क्या जीएं

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – बस यही सोचके तुम्हें याद किया करता था

love shayari hindi shayari

वो भी क्या रातें थी जब खूब जगा करता था
क्या खबर थी कि मैं खुद से दगा करता था

जो हकीकत भी नहीं था, फसाना भी नहीं
मैं कहीं बीच की मंजिल पर रहा करता था

फासलों में भी कई तार थे जुड़ने के लिए
बस यही सोचके तुम्हें याद किया करता था

कुछ शिकायत थी तुमसे भी, खुद से भी
जाने कुछ दर्द था, गजल में लिखा करता था

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – आज़ाद परिंदे के पंखों का बयाँ सुन ले

prevnext

आज़ाद परिंदे के पंखों का बयाँ सुन ले
पिंजरे की हकीकत क्या, ये मेरी जुबाँ सुन ले

पिंजरे में मिलती थी हर एक खुशी लेकिन
उस चाँद को छूने की हिम्मत थी कहाँ पहले

जब चाहे जहाँ चल दे, जब चाहे जहाँ रूक जा
पिंजरे से जो बाहर हो, जब चाहे जहाँ उड़ ले

दुनिया तो सिखाएगी पंखो को कतरना ही
ना सीख तू ये दिलबर, एक राह तू खुद चुन ले

©RajeevSingh # love shayari #share photo shayari

शायरी – तेरे दिल में छुपा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

love shayari hindi shayari

तेरे दिल में छुपा क्या है, खुदा जाने या तू जाने
लकीरों में लिखा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

खयालों का वो शहजादा जो तेरे पास आता है
तू पहचाने उसे कब तक, खुदा जाने या तू जाने

मेरी आहें छलकती हैं या खामोशी के हैं शबनम
निगाहों की सदा क्या है, खुदा जाने या तू जाने

कभी मुझसे मिलोगी तो हकीकत खुल ही जाएगी
वो मोहलत आएगा कब तक, खुदा जाने या तू जाने

©RajeevSingh #love shayari

शायरी – अश्क में डूबी नज़र है, दर्द है खूने जिगर

new prev new next

इश्क की बाजी में हारे जाने कितने बाजीगर
इस तिजारत में बिके जाने कितने सौदागर

सिर्फ इतनी सी खला है मौत भी मुमकिन नहीं
अश्क में डूबी नज़र है और दर्द है खूने जिगर

फासला ही एक हकीकत और यही अंजाम है
फुरकतों की वादियों में है आशिकों का शहर

जिंदगी को एक बार नागिन ने जो डस लिया
अब असर करता नहीं दुनिया का कोई जहर

तिजारत – व्यापार
फुरकत – जुदाई

©RajeevSingh