Tag Archives: हादसा शायरी

शायरी – प्यासे ही रह गए यहां दिलरूबाओं के सनम

love shayari hindi shayari

भूले नहीं है दर्द को हमसाया समझ के हम
जाएंगे हम जहां-जहां वहां चलेंगे दर्दो-गम

कितनी उदास सी फिजा, कितना वीरान आस्मा
गुलशन में चारों ओर है रोता हुआ मेरा चमन

दुनिया के रेगिस्तान से कोई उम्मीद क्या करें
प्यासे ही रह गए यहां दिलरूबाओं के सनम

दो बरस का हादसा उम्रभर होता रहा
घायल सी तन्हाइयों में अब चोट खा रहे हैं हम

Advertisements

शायरी – इश्क एक मजबूर ही इस जमीं पे कबसे है

new prev new shayari pic

चाँदनी बड़ी दूर ही आसमा पे कबसे है
इश्क एक मजबूर ही इस जमीं पे कबसे है

आज सुनता हूँ कहीं पर हो गया ये हादसा
प्रेमियोँ को फूँकने का रस्म यहाँ पे कबसे है

प्यार ये अपनों से भी भला क्यूँ करने लगे
खून के रिश्तों में भी दुश्मनी ये कबसे है

अक्ल से जो काम लेंगे, क्या करेंगे वो वफा
दिल को सौदागर बनाने का चलन ये कबसे है

©राजीव सिंह शायरी