Tag Archives: prem kahani

जिसने मुझे जीना सिखाया वो शादीशुदा है, जिससे मेरी शादी हो रही वो धोखेबाज – आकांक्षा की लव स्टोरी

मैं आकांक्षा हूं। अकाउंट डिपार्टमेंट में जॉब करती हूं। बहुत गरीब परिवार से हूं। स्कूल में जब पढ़ती थी तब मेरा एक ब्वॉयफ्रेंड बना जो अब तक सिर्फ पांचवीं तक पढ़ा है और कुछ काम भी नहीं करता है। उसने मुझे कई बार दूसरी लड़कियों के लिए छोड़ा पर हमेशा गिड़गिड़ा कर, रोकर मुझे मना लेता था। एक बार मैंने उसे रंगे हाथ पकड़ लिया तो उससे ब्रेकअप कर लिया।

कहते हैं कि सबकी लाइफ में एक ऐसा इंसान आता है जो उसकी दुनिया बदल जाता है। मैं ऑफिस में समीर से मिली। वो शादीशुदा है। एक बेटी भी है उसकी। बहुत अच्छा इंसान है। वो अपनी बीवी से बहुत परेशान है। तलाक की बात करता है तो बीवी उसे सुसाइड और बेटी की हत्या कर फंसाने की धमकी देती है। इस वजह से उसकी लाइफ बर्बाद है। यह सब जानकर भी हम दोनों एक दूसरे क्लोज आ गए और प्यार हो गया।

akanksha love story

मेरे पापा ने मुझे कभी सपोर्ट नहीं किया। मैंने अपनी पढ़ाई भी खुद कमाकर की। मैंने काफी संघर्ष के बाद नौकरी पाई। ऑफिस में समीर का प्यार पाकर मेरी लाइफ खुशियों से भर गई। उसने मेरे लिए इतना किया जो एक पिता या पति भी नहीं कर सकता। हर चीज में मेरी मदद की। कभी झूठ नहीं बोला और न ही किसी चीज का लालच किया।

अब पिछले एक साल से मेरी फैमिली मुझपर शादी का दबाव डाल रही थी। मैंने समीर से बात की। उसने कहा कि हमारी शादी नहीं हो पाएगी। खैर, उसकी भी कोई गलती नहीं, हम दोनों को सबकुछ पहले से पता है। इस बीच मेरा पांचवीं पास एक्स ब्वॉयफ्रेंड अपनी फैमिली को लेकर मेरे घर शादी की बात करने आ गया और मेरी फैमिली ने भी हां कर दी।

उस पांचवीं पास से मेरी शादी होनेवाली है। मैं घर में मना नहीं कर पाई। फैमिली का फैसला मानने के लिए मजबूर हूं और मुझे ये शादी करनी पड़ेगी। अब मैं यह सोच नहीं पा रही है कि समीर का साथ मैं कैसे छोड़ूं जिसने मुझे जीना सिखाया, मेरा इतना साथ दिया, मेरे लिए इतना कुछ किया। मैं उसकी लाइफ से गई तो वो टूट जाएगा क्योंकि पहले से वो बहुत टेंशन में रहता है और उसको हार्ट की भी बीमारी है। अगर मैं समीर का साथ नहीं छोड़ती तो जिससे शादी होगी, उसके साथ धोखा होगा जो मैं नहीं चाहती। मैं बहुत परेशानी में फंस गई हूं। बताइए इस सिचुएशन में क्या करूं?

Advertisements

मैं उसके धोखे के साथ जी सकती हूं लेकिन उसके बिना नहीं – दीपा की लव स्टोरी

मैं दीपा 21 साल की हूं। दिल्ली के द्वारका से हूं। छह साल पहले 2011 में मेरे पापा की डेथ हो गई थी। उस समय में मैं 12वीं में थी। उसके बाद मेरी पढ़ाई छूट गई और मैं जॉब करने निकल गई। मुझे एक कंपनी के एडमिन में जॉब मिल गया। वहां मैं चुप चुप सी रहती थी। सिर्फ काम करती थी, किसी से बात नहीं करती थी और ना ही हंसती थी।
——-
मैं बहुत सैड रहती थी तो एक लड़का मेरे ऑफिस में मुझसे बात करने की कोशिश करता था। वह मुस्लिम है। वह दूसरों से मेरे दुखी होने की वजह पूछता रहता था कि ये ऐसे क्यों रहती है। उसने एक दिन मुझे प्रपोज किया तो मैंने मना कर दिया। उसने कहा कि मैं तुमको सारी खुशियां दूंगा, तुमको बहुत खुश रखूंगा। बहुत से वादे किए फिर भी मैंने मना कर दिया।
——–
उस टाइम मैं किसी से प्यार करने के कंडीशन में नहीं थी। मैं बहुत दुखी रहती थी। इसके बाद उसने सुसाइड करने की कोशिश की तो मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसके प्रपोजल को एक्सेप्ट कर लिया। मेरे अंदर उस वक्त उसके लिए कोई फीलिंग नहीं थी। मैंने उसको अपना फ्रेंड बनाया।

deepa love story
———-
हम दोनों साथ घूमने-फिरने लगे। फिर मुझे प्यार हो गया उससे। बहुत ज्यादा। जितना प्यार वो मुझसे करता है, उससे भी कहीं ज्यादा। पिछले छह सालों में हम दोनों ने एक ही कंपनी में जॉब की। हम दोनों एक-दूसरे के बिना रह नहीं पाते थे।
———
उसने मेरी मां से शादी के लिए बोला लेकिन मां ने मना कर दिया। धीरे-धीरे वक्त गुजरा और एक दिन मुझे छह महीने पहले पता चला कि उसकी शादी हो रही है। पापा की डेथ के बाद यह मेरी लाइफ में दूसरा बड़ा झटका था। मेरे ही सामने मार्च 2017 में उसकी शादी की तैयारी हुई और शादी हो भी गई। मैं कुछ नहीं कर पाई।
———
शादी उसके लिए एक मजबूरी थी या जानबूझकर की, यह मुझे पता नहीं पर हम जैसे थे वैसे ही बात करते रहे, मिलते-जुलते रहे। शुरू के दो महीने सब ठीक रहा लेकिन अब वो पिछले चार महीने से काफी बदल गया है। उसका बिहेव बहुत चेंज हो चुका है।
———
हम दोनों की बात अब भी होती है लेकिन अब लड़ाई ज्यादा होती है। मैं रोती हूं लेकिन उस पर मेरे जीने-मरने से कोई फर्क नहीं पड़ता। मैंने 15 दिन पहले हाथ काट ली थी लेकिन इलाज के बाद अब मैं ठीक हूं। मेरी मां मुझे बहुत समझाती है कि मैं उसे भूल जाऊं लेकिन मैं उसे भुला नहीं पाऊंगी, उसके बिना जी नहीं पाऊंगी। रोज रातभर रोती रहती हूं।
———
मुझे रातों को नींद नहीं आती। मेरी मां मुझे देखकर दुखी होती है तो मैं उनके सामने अपना दुख छिपाने की कोशिश करती हूं। मैं अपने बीएफ से बहुत प्यार करती हूं, मुझे हमेशा इस बात की फिक्र सताती रहती है कि वो ठीक है कि नहीं। उसके दिल में अब उसकी वाइफ के लिए प्यार है, मेरे लिए नहीं।
——–
मैं उससे कहती हूं कि तुम मुझको या अपनी वाइफ में से किसी एक को धोखा दे रहे हो लेकिन वो कहता है कि मैं तुम दोनों को बराबर प्यार करता हूं। वो झूठ बोलता है लेकिन मैं उसके धोखे के साथ भी जी सकती हूं, उसके बिना नहीं रह सकती हूं। बहुत प्यार करती हूं मैं उससे। मैं बिल्कुल पागल हो रही हूं, क्या करूं कुछ समझ नहीं आता। रातभर जागकर रोती रहती हूं।

मैं भी दोराहे पर खड़ा हूं, प्यार को चुनूं या परिवार को – नितिन की रियल लव स्टोरी

मैं इस उम्मीद में अपनी लव स्टोरी लिख रहा हूं कि शायद मुझे भी मेरे सवालों का जवाब मिल जाएगा। मेरा नाम नितिन है और मैं गुजरात से हूं। सात महीने पहले की बात है। मेरे एक बेस्ट फ्रेंड की शादी में गया था तो जाहिर सी बात है कि शादी में काफी लोग होते हैं। वहां सबसे अलग सी दिखी एक लड़की, वो मेरे दोस्त की दूर की बहन थी। उसका नाम नेहा था।

——

nitin love story
वह बहुत खूबसूरत थी, बस ये कह दो कि किसी परी से कम नहीं थी। मैंने उसे सुबह में देखा था और वो भी बस दो मिनट के लिए लेकिन दो मिनट की नजर ने मानो मेरा सबकुछ लूट लिया। मुझे पता नहीं क्या हो गया। अचानक मेरे अंदर उसके लिए प्यार की फीलिंग जाग गई थी। बस उसके बाद तो उसको देखता ही रहा – वो क्या कर रही है, किससे बात कर रही है, कहां जा रही है। उसको देखना मेरा काम हो गया। शादी में मेरा पूरा ध्यान बस उस पर था।
——
जब शाम को हम गरबा खेल रहे थे तब भी मेरी नजर  उसी पर थी। फिर मैं किसी काम में बिजी हो गया तो कुछ देर बाद वो नजर नहीं आई। मैंने अपने दोस्त तो पूछा तो उसने बताया कि वो तो चली गई। मुझे बहुत  गुस्सा आया। मैं खुद पर ही चिल्लाने लगा कि ऐसे कैसे चली गई। शादी खत्म हो गई और हम अपने घर लौट गए। उसको भूल नहीं पा रहा था। मैं टेंशन में रहने लगा। काम करने में भी मन नहीं लगता था।
——
उसे याद करते-करते एक महीने बीत गए। फिर किसी भी तरह से उसका नंबर पता किया और कॉल कर दिया। उसने नाम पूछा तो पहले तो बहुत गुस्सा हुई। फिर मैंने दूसरे दिन कॉल किया। वो कुछ बोले उससे पहले ही मैंने उसे अपना परिचय दिया और बोला कि हम शादी में मिले थे। फिर उसका गुस्सा कम हो गया और मैंने सबकुछ बता दिया।
——
मैंने उसे अपने दिल का हाल बताया और लव प्रपोजल रख दिया। बोला कि अगर हां बोलोगी तो कभी छोड़कर नहीं जाऊंगा और अगर ना कहोगी तो कभी तुमको कॉल करके परेशान नहीं करुंगा। मुझे पता है कि प्यार जबर्दस्ती नहीं किया जा सकता है। उसने सोचने के लिए टाइम मांगा तो मैंने ओके बोला। उसने कहा कि जब तक मैं कॉल न करुं, मुझे कॉल मत करना।
——-
दूसरे दिन खुद ही उसने कॉल किया तो उसने बताया कि वो मुझे पसंद करती है। फिर उसने भी आई लव यू बोल दिया और ये बात उसके मुंह से कबसे सुनना चाहता था। वो दिन मेरी लाइफ का सबसे बड़ी खुशी का दिन था। फिर धीरे-धीरे हम रोज बात करने लगे। हमें जितना टाइम मिलता था उतना बात करते थे। मुझे ख्याल आया कि एक दिन मेरे दोस्त को हमारे रिश्ते के बारे में पता चलेगा तो कितना बुरा लगेगा।
——-
हम दोनों प्यार में आगे निकल चुके थे और एक दिन वही हुआ जो होना था। उसके घरवालों को हमारे रिश्ते के बारे में पता चल गया और साथ में मेरे दोस्त को भी। वो बहुत गुस्सा हुआ लेकिन मैं क्या करता. अब प्यार किया है तो भुगतना तो पड़ेगा। गर्लफ्रेंड से पापा ने फोन ले लिया और अब वो मुझे कॉल भी नहीं कर पा रही थी।
——-
मैं पूरी तरह से टूट चुका था। मैं डिप्रेशन में चला गया था। पूरे दिन बस उसकी याद आ रही थी। कुछ खाता नहीं था, सोता नहीं था, बस उसकी याद आ रही थी। मुझे तो ये भी नहीं पता था कि वो कैसी है। फिर एक दिन सुबह में उसका कॉल आया। वो फोन पर बहुत रो रही थी। उस टाइम मुझे सबसे ज्यादा दुख हुआ था। मैं भी उस दिन खूब रोया। उसके बाद हम कभी-कभी बात कर लेते हैं।
——
उसके पापा हमारी शादी के लिए मान नहीं रहे हैं। हम दोनों भागकर शादी नहीं करना चाहते हैं। हम दोनों अपनी फैमिली को छोड़कर शादी नहीं करना चाहते लेकिन हम एक दूसरे को छोड़ भी नहीं सकते। अब आप ही बताइए कि हम क्या करें? अपनी फैमिली को छोड़े या फिर अपने प्यार को? मुझे तो दोनों में से एक को चुनना होगा क्योंकि हमारी फैमिली शादी के लिए मानेगी नहीं, इतना मुझे पता है। इस दोराहे पर आकर मुझे समझ नहीं आ रहा कि किधर जाऊं?

उसने कहा कि वर्जिनटी टेस्ट दो, मैं पास हो गई तो मुझे धंधेवाली कहने लगा – राशि की रियल लव स्टोरी

Hi, मैं फरीदाबाद से राशि हूं। मैंने जब 12वीं पास की तो कॉलेज में गई। मैं राजपूत हूं और पढ़ने में खुद को अच्छा मानती हूं। मेरे ब्वॉयज और गर्ल्स दोनों फ्रेंड्स हैं। मुझे शुरू में प्यार में कोई इंट्रेस्ट नहीं था, शायद राजपूत फैमिली के माहौल की वजह से। मैं दबंग टाइप गर्ल हूं और अपनी बात टू द प्वाइंट कहती हूं। अगर मेरी गलती नहीं होती तो मैं किसी के आगे झुक नहीं सकती और मेरी सबसे बड़ी वीकनेस है कि मैं बहुत हेल्पिंग हूं।

मेरी एक सहेली के पास अनजान लड़के का फोन आया। वो उसे कॉल और मैसेज करके परेशान कर रहा था। मेरी फ्रेंड ने मुझसे कहा कि मेरी हेल्प करो, पता लगाओ कि कौन है। पता लगाने के चक्कर में मेरी उस लड़के से फोन पर बात होने लगी। उसने मुझे सब सच बता दिया कि वो कौन है। हम दोनों में दोस्ती हो गई।
rashi real love story
—–
धीरे-धीरे मैं उसे पसंद करने लगी। वो डिफेंस में जॉब करता था और जब मैं फर्स्ट ईयर में थी तो वो ट्रेनिंग कर रहा था। हरियाणा का जाट था वो। वो फरीदाबाद मुझसे मिलने आया था। हम दोनों मिले तो एक दूसरे को बहुत पसंद करने लगे। एक बार मैंने फेसबुक पर उसके मैसेज पढ़े तो नाराज हो गई क्योंकि उसने किसी को गंदी गालियां दी थी और मुझे हमेशा कहता था कि मैं गाली नहीं देता।

——
मैंने उससे बात करना बंद कर दिया तो उसने अपने चेस्ट पर ब्लेड से काटकर मेरे नाम पर पहला लेटर आर लिख लिया। वो बहुत रोते हुए बोला कि तुमसे बहुत प्यार करता हूं, तुम्हारे बिना रह नहीं सकता। मुझे भी उस पर बहुत ट्रस्ट हो गया। हमारी लाइफ में सब अच्छा चल रहा था। वो बहुत केयर करता था।
——-
उसने अपनी फैमिली से भी मुझे मिलाया। उसके घर में सब मुझे पसंद बहुत करते थे और शादी के लिए रेडी थे। मेरे घर में भी सब उसे पसंद करते थे क्योंकि उसका नेचर काफी अच्छा था लेकिन शादी नहीं कर सकते थे क्योंकि वो जाट था और मैं राजपूत। इस बीच मेरी लाइफ में बहुत बड़ा तूफान आया।
——-
एक एक्सीडेंट में उसकी सिस्टर की डेथ हो गई। उसके बाद वो टूट सा गया। मैंने उसे और उसकी मम्मी को बहुत संभाला। उसकी मम्मी बीमार रहने लगी थी और वो कहती कि मैं शादी करके आ जाऊं। इस बीच मेरे का पापा का एक पड़ोसी था जो दुश्मनी रखता था। वो मुझसे 15 साल बड़ा था। उसने मेरे बीएफ और मेरी फैमिली को बोला कि मेरे साथ उसका फिजिकल रिलेशनशिप है और उसके पास इसका वीडियो है।
——-
पड़ोसी ने झूठ बोला था इसलिए वो कुछ दिखा नहीं पाया। मेरी फैमिली को उसकी बातों पर यकीन नहीं हुआ क्योंकि वो जानते थे कि मैं कैसी हूं लेकिन मेरे बीएफ को ट्रस्ट नहीं हुआ। उसने कहा कि तुम सही हो तो प्रूव करो। तुम वर्जिन हो, इसका मेडिकल टेस्ट करा लो। उसने कहा, मेरे साथ फिजिकल रिलेशन बनाओ, तब मैं डिसाइड करुंगा कि तुम सही हो या नहीं।
——-
मैं उसके प्यार में इतनी पागल थी कि इस बात के लिए भी रेडी हो गई और उसकी बात मानकर मैंने प्रूफ दे दिया और मैं पास हो गई। वो बहुत खुश हुआ और हमारी रिलेशनशिप फिर से ठीक हो गई। उसके बाद उसने कहा कि शादी कर लो मेरे साथ क्योंकि यह जरूरी है, मम्मी बहुत बीमार रहती है। उसने मेरी फैंमिली को बोला लेकिन मेरे मां-पापा ने मना कर दिया क्योंकि इंटर कास्ट मैरिज वो नहीं चाहते थे।
——-
इस बीच मेरे दादाजी एक्सपायर हो गए और मेरे पापा ने साफ मना कर दिया कि लोग क्या कहेंगे कि बाप के मरते ही किसी भी कास्ट में शादी कर दी। उन्होंने साफ मना किया, मेरा कोई भाई नहीं है, हम दो बहनें हैं बस। पापा को ये न लगे कि बेटी पैदा कर गलती कर दी, उनकी इज्जत के लिए और मम्मी के लिए मैंने उसको शादी से मना कर दिया कि तुमसे शादी नहीं करुंगी।
——–
वो मेरा वेट नहीं कर सकता था क्योंकि उसकी मम्मी बीमार रहती थी। उसने मम्मी पापा की पसंद की लड़की से शादी कर ली उसके बाद मैं बहुत रोई। वो भी रोया। हम दोनों ने डिसाइड किया कि शादी हो गई तो क्या, प्यार तो हमेशा रहेगा। उसने बहुत लंबे वादे किए थे लेकिन शादी के कुछ ही दिन बाद वो मुझे गंदी गंदी गालियां देने लगा। बोला तू वर्जिन नहीं है, तेरे पहले से रिलेशन थे उस लड़के के साथ।
——–
उसकी वाइफ ने भी बहुत कुछ सुनाया। मैंने कुछ नहीं कहा। फिर थोड़े दिन बाद मुझसे माफी मांगने लगा। बोला, सॉरी तू मेरे साथ फिजिकल रिलेशन बना ले, मैंने साफ मना कर दिया और कहा कि तेरी शादी हो चुकी है, तू  उसके साथ खुश रह लेकिन उसने फिर मुझ पर इल्जाम लगाया कि मुझे कोई और मिल गया है और यार बना लिया है।
——-
हमेशा उसने मेरी इनसल्ट की। आज उसका एक बेटा है फिर भी मुझे फोन करके ताने मारता है। अब मैंने अपना नंबर चेंज कर लिया है। अपने मम्मी पापा का सहारा बन रही हूं क्योंकि मेरा कोई भाई नहीं है और पापा बहुत बीमार रहते हैं। मैं उसको आज भी भुला नहीं पाती हूं। कोई ऐसे दर्द कैसे दे सकता है, वो सब वादे भूल गया, यहां तक कि उसने मुझे धंधेवाली तक कहके गाली दी।
——
खुद कॉल करता और अपनी वाइफ को कहता कि मैं उसको परेशान कर रही हूं। उसकी वाइफ ने मेरे मम्मी पापा तक को कॉल करके गाली दी। जो इनसान मुझे ये कहता है कि मैं तेरे मम्मी पापा का बेटा हूं, उसने अपनी वाइफ से गाली दिलवाई। उसकी वाइफ अनपढ़ है, जो कहता है, उसकी बात मानती है। आज वो बंदा इतना पागल है कि मेरी फ्रेंड्स को कॉल करके फ्लर्ट करता है।
——
उसकी इस हरकत से मेरा बहुत कुछ बर्बाद हुआ है। मैं टूट गई हूं। किसी पर भरोसा नहीं करती, बस अब अपनी फैमिली और कैरियर पर फोकस कर रही हूं। लोग ऐसा क्यों करते हैं, भरोसा जीतकर भरोसा तोड़ते हैं। मेरी लाइफ नर्क बन गई। मैं अच्छी स्टूडेंट थी, मुझे अपना कॉलेज ड्रॉप करना पड़ा उसकी वजह से।
——
उसने बहुत बार कोशिश की कि मैं सुसाइड कर लूं लेकिन मुझे जीना था। अपने मम्मी पापा के लिए मैंने हार नहीं मानी। मैंने दुबारा जिंदगी शुरू की और अपना कॉलेज, ग्रेजुएशन कंप्लीट की। अब एमबीए कर रही हूं, साथ में जॉब भी क्योंकि हाल में मेरे पापा को हार्ट अटैक आया था। कभी-कभी लगता है कि मैं लड़का होती तो अच्छा होता।
——
मेरे पैरेंट्स मेरे लिए लड़का देख रहे हैं लेकिन मुझे शादी के नाम से ही डर लगता है। पता नहीं मेरी लाइफ में कभी दुबारा किसी का प्यार मिलेगा भी या नहीं। उसके जाने के बाद मेरा प्यार पर से भरोसा टूट चुका है। उसके आने से पहले भी मुझे प्यार पे ट्रस्ट नहीं था। जहां से मैंने शुरुआत की थी, उसने मुझे वहीं पहुंचा दिया।