ऐसे मेहबूब से अदावत शायरी ईमेज

मेहबूब शायरी ईमेज

जो मुझे ना दिखे पर सीने पे खंजर मारे
ऐसे मेहबूब से अदावत मैं भला कैसे करूं

वहीं पे इश्क ठहरा होगा, जहां पर तेरी नजर का पहरा होगा, एक बार जो देख लो तुम हमें मुड़के, हमारा प्यार कुछ और गहरा होगा। shayari photo.

Leave a Reply