जज्बात में जीता हूं शायरी ईमेज

दुनिया पे मैं एक दाग हूं, तन्हा सा नाशाद हूं जज़्बात में जीता हूं बस दिल जलाई के लिए

जज्बात शायरी ईमेज

मुफलिसी की जिंदगी में मोहब्बत कैसे करूं तुमसे, तुम्हारी ख्वाहिशें अधूरी रह जाएंगी, तुम बनी हो किसी धनवान के लिए, मेरी पास तेरी यादें रह जाएंगी।

Advertisements

Leave a Reply