हुस्न का चिराग जलाने वाला शायरी ईमेज

हुस्न ओ इश्क शायरी

दो घड़ी में ये अंधेरी रात गुजर जाएगी
हुस्न का चिराग जलाने वाला कोई नहीं

हर मोड़ पे मेरी जिंदगी की तन्हाई, दिन रात बस तेरी ही याद आई, तुमसे पूछता है मेरे दिल का चैन, तू मेरा सुकून अब तक क्यों नहीं लाई।

Leave a Reply